मनोविज्ञानविषय पर नजफगढ़ रोड स्थित हरदयाल स्कूल में आयोजित तीन दिवसीय वर्कशॉप का गुरुवार को समापन हुआ।

वर्कशॉप के दौरान विश्व प्रसिद्ध युवा मनोविज्ञान शोधकर्ता नितिन राजमित्रा ने बच्चों को डिप्रेशन दूर करने के टिप्स दिए। उन्होंने कहा कि नेगेटिव सोच से मनुष्य डिप्रेशन में जाता है और डिप्रेशन सुसाइड की सबसे बड़ी वजह है। इसलिए हमें पॉजिटिव सोच के साथ डिप्रेशन को नियंत्रण में रखना चाहिए।

किशोर और युवा बेहद संवेदनशील उन्होंने बताया कि व्यक्ति को असफलता सहन नहीं होती। किशोर युवा में बेहद संवेदनशील होते हैं। जब किसी युवा को लगने लगता है कि वह अपने काम में सफल नहीं हो रहा तो वह नकारात्मक सोच में डूब जाता है और इस तरह की परिस्थिति उसे कहीं कहीं आत्महत्या के लिए विवश करती है। आत्महत्या के मानसिक, सामाजिक, साइकोलॉजिकल, बायोलॉजिकल एवं जेनेटिक कारण होते हैं। ऐसे व्यक्ति जिनमें आत्महत्या के जीन होते हैं, उनमें बायोकेमिकल परिवर्तन हो जाते हैं और वह आत्महत्या जैसा घृणित कदम उठाते हैं।   –  अंकिता कौशिक

शिक्षक और अभिभावक से शेयर करें परेशानी

युवासाइकोलॉजिस्ट अंकिता ने कहा कि विद्यार्थी जीवन में मानसिक तनाव बहुत हानिकारक है। स्टूडेंट्स को अपनी समस्याएं अपने टीचर पेरेंट्स के सामने बतानी चाहिए, ताकि समय रहते उनका समाधान हो सके। उन्होंने बच्चों द्वारा बोलने में संकोच करने, आत्मविश्वास में कमी, कार्य में मन लगाना जैसी समस्याओं के समाधान के टिप्स भी दिए। उन्होंने कहा कि युवा वर्ग पॉजिटिव सोच अपना कर देशहित और समाजहित के बारे में सोचे। इसी उद्देश्य को लेकर बहादुरगढ़ और झज्जर के स्कूल-कॉलेजों में वर्कशॉप आयोजित की जा रही है। इस मौके पर प्रिंसिपल अनुराधा यादव समेत स्कूल का तमाम स्टाफ और बच्चे मौजूद रहे।

Source From Bhaskar
www.bhaskar.com/harayana/jhajjar_zila/bahadurgarh

There are no comments yet.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked (*).

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>